रवीश कुमार । आज रोहिणी आचार्यमाथि लेख्न मन लाग्यो । एउटी छोरीले बाबुलाई मिर्गौला दान गरेकी छिन् ।

सबै छोराछोरीले दिन पछि नहटे पनि रोहिणी आचार्यले जसरी आफ्ना बुवा लालूप्रसाद यादवलाई मिर्गौला दान गरिन्, त्यो उदाहरणीय छ । लालूजीको परिवार राजनीतिक रह्यो । मैले रोहिणीको ट्वीटलाई जति फलो गरेको छु, यो छोरीको लागि लालूजी मात्र पिता हुन् जस्तो लाग्छ।

मैले रोहिणीलाई कहिल्यै भेटेको छैन, जबकि मैले रिपोर्टिङका ​​क्रममा लालूजीको घर जाने धेरै अवसर पाएको छु । तेजस्वी राजनीतिज्ञ हुन्, मैले उनलाई भेटेको छु । तर रोहिणीको ट्विटरमा बुबाप्रति स्नेह व्यक्त गर्ने तरिका अलि फरक छ । त्यसमा स्वंयमका लागि कुनै आत्म प्रचार (स्वार्थ) हुँदैन ।

त्यसको कुनै राजनीतिक महत्व छैन । त्यसमा केवल बाबु र छोरीको प्रेम मात्रै छ । बुबाप्रति यो माया देखेर मैले रोहिणीलाई ट्विटरमा फलो गरें । थाहा छैन रोहिणी म भन्दा जेठी हुन कि कान्छी, कान्छी भए मेरो तर्फबाट धेरै माया । बुबा छोरीको शिघ्र स्वास्थ्य लाभको कामना गर्दछु ।

रोहिणीले आफ्ना बुवाप्रतिको माया मात्रै व्यक्त गरिरहेकी छैनन्, अङ्गदान गरेर धेरै परिवारका लागि प्रेरणा पनि बनिरहेकी छिन् । अङ्गदानलाई लिएर समाजमा कति नराम्रो विचार फैलिएको छ । रोहिणीले मिर्गौला दान गर्ने कुराबारे जानकारी दिइन्, सिङ्गापुरमा सामान्य बुवालाई जस्तै स्वागत गरिन्, त्यसले गर्दा समाजको ठूलो वर्गमा मिर्गौला दान गर्दा हुने हिचकिचाहट तोडिएको हुनुपर्छ ।

मिर्गौला दान गर्ने निर्णय कसैको लागि सजिलो छैन । कसैको बारेमा धारणा बनाउन गाह्रो छ । तपाईं सिधै भन्न सक्नुहुन्न कि इन्कार गर्ने व्यक्ति गलत छ । यसका धेरै कारण छन् । अस्पताल, डाक्टरको भरोसा कम हुन्छ, पैसा हुँदैन् । अरु कुराहरु पनि छन् । पटकपटक मिर्गौला दानको नाममा घर तहसनहस हुन्छ । बिरामी अस्पतालमा सुत्दा बाँकी सदस्यहरुबीच झगडा हुने गरेको छ । यसबाहेक भारतमा अङ्गदानका सम्बन्धमा धेरै कानुनी समस्याहरू छन् ।

सिङ्गापुरमा प्रत्यारोपणका लागि मानिसहरु जाने भएकाले त्यहाँ राम्रो व्यवस्था हुनुपर्छ । भारतमा पनि यस्तो हुन्छ र यहाँका डाक्टरहरू पनि कम सक्षम छैनन्, तर मलाई थाहा छैन त्यहाँका डाक्टरकहाँ मान्छेहरू किन जान्छन् । तर त्यहाँ केही राम्रो छ भने भारतमा पनि नक्कल गर्नुपर्छ, ताकि अरूलाई पनि फाइदा होस् । अहिले रोहिणी आचार्यले मन जितिसकेकी छिन् । भगवानले उनी र उनका प्यारा बुबालाई शिघ्र स्वास्थ्य लाभ दिएर बलियो राखुन् । समाजमा अङ्गदान सम्बन्धी चेतनाको प्रक्रिया बढ्दै जानुपर्छ । सबैलाई हौसला मिलोस् ।

रवीश कुमार भारतका बरिष्ठ पत्रकार हुन्, उनले हालै झण्डै तीन दशक काम गरेको सञ्चार संस्था एनडीटिभीबाट राजीनामा दिएका थिए । उनै कुमारले रोहिणी आचार्यबारे सामाजिक सञ्जाल फेसबुकमा राखेको विचारलाई हामीले नेपालीमा भानुवाद गरेका हौँ ।

आज रोहिणी आचार्य पर लिखने का मन कर रहा है। एक बेटी ने अपने पिता के लिए किडनी दी है। वैसे तो सभी संतानें देने से पीछे नहीं हट रही थीं मगर जिस तरह से रोहिणी आचार्य ने अपने पिता लालू प्रसाद यादव के लिए किडनी दी है, वह अनुकरणीय है। लालू जी का परिवार राजनीतिक रहा है। जितना मैंने रोहिणी के ट्वीट फोलो किए हैं, उससे लगता है कि इस बेटी के लिए लालू जी केवल पापा हैं।

मैं रोहिणी से कभी मिला नहीं जबकि रिपोर्टिंग के दौरान लालू जी के घर जाने के कई अवसर मिले हैं। तेजस्वी तो राजनेता हैं, उनसे मुलाक़ात है। लेकिन जिस तरह से रोहिणी ने ट्विटर पर अपने पिता के प्रति स्नेह का इज़हार किया है, वह काफ़ी अलग है। उसमें आत्म प्रचार नहीं है।
उसका कोई राजनीति महत्व नहीं है। उसमें केवल बाप और बेटी का रिश्ता है। अपने पिता के प्रति इस प्यार को देख मैंने ट्विटर पर रोहिणी को फ़ॉलो कर लिया। मुझे नहीं पता कि रोहिणी उम्र में हमसे बड़ी हैं या छोटी, अगर छोटी हैं तो मेरी तरफ़ से ख़ूब सारा प्यार। हम पिता-पुत्री के स्वस्थ होने की कामना करते हैं।

रोहिणी केवल अपने पिता के प्रति प्रेम का इज़हार नहीं कर रही हैं बल्कि अंगदान करके कितने ही परिवारों के लिए प्रेरणा बन रही हैं। अंगदान को लेकर कितने बुरे ख़्याल समाज में फैले हैं। जिस तरह से रोहिणी ने अपने किडनी देने की जानकारी दी है, सामान्य पिता की तरह सिंगापुर में स्वागत किया है, उसके कारण समाज के बड़े हिस्से में किडनी देने को लेकर कुछ झिझक टूटी होगी।

किडनी देने का फ़ैसला किसी के लिए आसान नहीं होता। इसे लेकर किसी के बारे में राय बनाना मुश्किल है। आप सीधे नहीं कह सकते कि इंकार करने वाला ग़लत ही है। इसके कई कारण होते हैं। अस्पताल, डॉक्टर का भरोसा कम होता है, पैसा नहीं होता है। और भी चीज़ें हैं। कई बार किडनी देने के नाम पर घर बिखर जाता है ।मरीज़ अस्पताल में पड़ा हुआ है और बाकी सदस्यों में झगड़ा चल रहा होता है। इसके अलावा भारत में अंगदान को लेकर कई क़ानूनी समस्याएँ भी हैं।

सिंगापुर में ज़रूर बेहतर व्यवस्था होगी जिसके कारण लोग वहाँ ट्रांसप्लांट के लिए जाते हैं। भारत में भी होता ही है और यहाँ के डॉक्टर कम काबिल नहीं है लेकिन वहाँ के डॉक्टर से ही कोई क्यों कराने जाता है, इसकी जानकारी मुझे नहीं। लेकिन अगर वहाँ कोई चीज़ अच्छी है तो उसकी नक़ल भारत में भी होनी चाहिए ताकि बाक़ी लोगों को भी लाभ मिले। फ़िलहाल रोहिणी आचार्य ने दिल जीत लिया है। ईश्वर उन्हें और उनके प्यारे पिता को जल्दी स्वस्थ करे और मज़बूत रखे। समाज में अंगदान को लेकर जागरूकता का सिलसिला बढ़ता रहे। सबमें हौसला आए।

सम्बन्धित खबरहरु